Home National सावधान!! देश से निकाले जाने के डर से दिल्ली में रोहिंग्या मुस्लिम...

सावधान!! देश से निकाले जाने के डर से दिल्ली में रोहिंग्या मुस्लिम ईसाई बन रहे है

34
0

पिछले कुछ समय से भारत में रोहिंग्या मुसलमानों की घुसपैठ को लेकर जबरदस्त वाद विवाद हो रहा है .. समस्या इतनी विकट हो चुकी है कि मोदी सरकार को तुरंत प्रभाव से इसका हल निकालना होगा और कड़ी कार्यवाई करते हुए रोहिंग्या घुसपैठियों को देश ने निकालना होगा ।

इसी बीच अन्तर्राष्ट्रीय समुदाय,गैर सरकारी संगठन,संयुक्त राष्ट्र और विपस्क के साथ साथ धार्मिक समूहों ने सरकार पर दबाव बनाने की निरन्तर कोशिश की है परंतु इन सभी वर्कर के दबावों को दरकिनार करते हुए नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार ने सुप्रीम कोर्ट के साथ एक रणनीति के तहत कठोर व् त्वरित कार्यवाई करने का फैसला किया है।

चौकाने वाला घटनाक्रम : जब भारत सरकार बांग्लादेश और म्यंमार सरकार के साथ रोहिंग्यो के शीघ्र और सुरक्षित निर्वासन पर काम कर रही है तभी एक चौकाने वाले घटनाक्रम ने सभी को हिला कर रख दिया है .. भारत से बाहर निकाले जाने से बचने के लिए रोहिंग्या मुसलमानो ने अपना धर्म परिवर्तन करना शुरू कर दिया है ।

दिल्ली के उत्तम नगर के आस पास के इंडस्ट्रियल एरिया में बसी झुग्गी झोपड़ियों में रहने वाले लोग रोहिंग्या ईसाई के नाम से जाने जाने लगे है .. 2012 के आस पास ये लोग म्यांमार से तत्कालीन सरकार की मदद से चोरी छिपे ये लोग ऐसे इलाको में अपनी पहचान बदलकर रहने लगे है .. ये लोग रोही गया मुस्लिमो से थोड़े भिन्न है क्योंकि इनका धर्म परिवर्तन कर इनके ईसाई नाम व् पहचान दी जा रही है जिसके पीछे कर्नाटक का “पास्टर” का समर्थन होता है । दिल्ली के शाहीन बाग़,कालिंदी कुंज और उत्तम नगर के आस पास के क्षेत्रों में ये लोग बस गये है।

ईसाई NGO और मिशनरियों ने म्यांमार से भागे हुए इन परिवारों जबरन धर्म परिवर्तन करवाकर ईसाई बनाया और ये सभी लोग संयुक्त राष्ट्र रिफ्यूजी एजेंसी द्वारा पंजिकर्त करवाये गये है,हालांकि इन लोगो का कोई भी  UNHCर कार्ड नही बना सकता है और इसके लिए बाध्य नही है ।

स्त्रोतों के मुताबिक इनके धर्मांतरण के पीछे कई प्रलोभन मिशनरियों द्वारा दिए गए है .. जिनमे सुरक्षा व् horror threat जो की रोहिंग्या मुसलमानो से जुड़ा है दिया गया है .. यदि आप ईसाई बनते है तो आप पर लगा रोही गया आतंकी का धब्बा भी धुल जाएगा .. और इन लोगो का ब्रेन वाश भी इसी तरह के विचारों से किया गया । अब पिछले 5 वर्षों से ये घुसपैठिये जिनकी संख्या लगभग 40,000 बताई जा रही भारत में रह रहे है और मोदी सरकार इनको येन केन प्रकारेण भारत से बाहर निकालने के लिए प्रयासरत है .. तो मिशनरियों ने इनके बचाव का रास्ता निकाल वो है धर्मान्तरण जिसके तहत ईसाई बन जाने पर इन लोगो को निर्वासित नही किया जा सकता और स्थानीय लोगो से भी किसी प्रकार की प्रतिक्रिया का सामना नही करना होगा क्योंकि ये “मुसलमान” है …

3 अक्टूबर 2017 अर्थात आज वर्तमान का दिन महत्वपूर्ण क्यों ?

उच्चतम न्यायालय में एक याचिका के तहत 2 रोहिंग्या मुसलमानो ने लगभग 40,000 रोहिंग्या मुस्लिमो के निर्वासन को चुनौती दी है जिसकी सुनवाई आज होने की संभावना है । ये हमारे देश के अस्तित्व और आंतरिक सुरक्षा के लिए सबसे महत्वपूर्ण लड़ाई है .. ईसाई मिशनरीयो के साथ मिलकर इन घुसपैठियों ने सरकार को धोखा देने की लिए हर संभव कोशिश कर रहे है जो की देश के लिए बेहद खतरनाक साबित हो सकता है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here