Home News

योगी आदित्यनाथ का ‘ऑपरेशन क्लीन’, उत्तर प्रदेश में 72 घंटे में 7 एनकाउंटर

79
0
SHARE

उत्तर प्रदेश पुलिस के ऑपरेशन के बाद अपराधी दहशत में हैं। पिछले 72 घंटे में यूपी के अलग-अलग शहरों में पुलिस ने 7 एनकाउंटर को अंजाम दिया है जिसमें एक अपराधी को ढेर कर दिया गया है और करीब एक दर्जन बदमाश गिरफ्तार किए गए हैं।

बीती रात मेरठ में पुलिस ने दस हजार के इनामी बदमाश को धर दबोचा जबकि मुजफ्फरनगर में एनकाउंटर के बाद पांच बदमाशों को पकड़ने में पुलिस को कामयाबी मिली है। वहीं आज़मगढ में पुलिस ने एनकाउंटर में पच्चीस हज़ार के इनामी बदमाश को मार गिराया तो गोरखपुर में पुलिस पर फायरिंग कर रहे भाग रहे एक बदमाश को पकड़ा गया है।

प्रदेश में योगी सरकार के ऑपरेशन क्लीन का असर दिख रहा है। साल शुरू हुए अभी 10 दिन हुए हैं और ताबड़तोड़ एनकाउंटर हो रहे हैं। मेरठ के अलावा बीती रात मुजफ्फरनगर और मुरादाबाद में भी पुलिस के एनकाउंटर को अंजाम दिया। इसके अलावा आजमगढ़ और गोरखपुर में भी बदमाशों से पुलिस की मुठभेड़ हुई है।
मुज़फ्फरनगर के रामराज इलाके में पुलिस को खबर मिली थी कि पांच अपराधी किसी घटना को अंजाम देने के लिए बाइक से आ रहे हैं। पुलिस ने नाकेबंदी कर बदमाशों को रोकने की कोशिश की तो बदमाशों ने पुलिस पर फायरिंग कर दी। जवाबी फायरिंग में एक बदमाश पैर में गोली लगने से घायल हो गया जिसके बाद पुलिस ने पांचों अपराधियों को धर दबोचा।
पकडे गए सभी बदमाशों पर पांच-पांच हजार रूपये का ईनाम है। पकड़े गए बदमाशों के पास से पुलिस ने लूट के दो मोबाइल, दो टैबलेट, लैपटॉप और नगदी के साथ-साथ पांच तमन्चे, कारतूस और दो बाइक बरामद की है।
अपराधियों के खिलाफ यूपी पुलिस का अभियान आजमगढ़ में भी चला जहां पुलिस ने 25 हजार के इनामी बदमाश छन्नू सोनकर को मुठभेड़ के दौरान मार गिराया। इस मुठभेड़ में एसओ अंगद तिवारी और एक सिपाही को भी गोली लगी। पुलिस के मुताबिक मारा गया बदमाश छन्नू और उसका साथी बाइक छीनकर भाग रहे थे।

आजमगढ़ पुलिस ने जब छन्नू को रोकने की कोशिश की तो उसने गोली चला दी। जवाबी कार्रवाई में छन्नू को भी गोली लगी। अस्पताल में इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई। पुलिस ने एक रिवॉल्वर व एक बाईक बरामद की है। मारा गया छन्नू सोनकर हत्या, लूट की वारदातों में शामिल था।

बता दें कि साल 2017 में यूपी पुलिस ने 895 एनकाउंटर किए थे जिसमें 26 अपराधियों को मार गिराया गया और 196 घायल हो गए। मार्च 2017 में नई सरकार के गठन के बाद अपराधियों के एनकाउंटर मे और तेजी आई है।

Leave a Reply